ग्रामीण उत्पादों एवं सेवाओं का विपणन

  • मालिनी पाण्डेय .पाण्डेय प्रवक्ता, प्रौढ़ शिक्षा विभाग,सी0एस0जे0एम0वि0वि0,कानपुर

Abstract

ग्रामीण बाजार अब धूम मचाने को तैयार हैं। ग्रामीण उद्यमी को अपने ग्राहकों की बदलती पसंद एवं प्राथमिकतओं के बारे में जागरूक होना चाहिए। जहाँ ऐसे उद्यमियों लिए ढेर सरे अवसर हैं वहीं ग्रामीण बाजारों में प्रवेश करने वाले संगठित क्षेत्रों की वजह से इन्हें बहुत सी चुनौतियों का भी समाना करना पड़ता है। लघु उद्यमी को जहाँ अनेक फायदे मिलतें हैं वहीं वह ग्रामीण लोगों को उनकी पसंद के उत्पाद एवं सेवाएं प्रदान कर सकता है। स्थानीय बाजारों में अपनी ठोस स्थिति के कारण वह लक्ष्य समूह की पसंद/प्राथमिकताओं के प्रति अधिक जागरूक होता है। हालांकि शहरी मध्यम वर्ग की क्रय शक्ति को नियंत्रित कर पाना एक बड़ी चुनौती है इसलिए आने वाले समय में एजेंसियों को बाजार विकास संबंधी गतिविधियों पर गहनता से ध्यान केंन्द्रित करना होगा।

Downloads

Download data is not yet available.
Published
2018-05-28
Section
Review Article