दीनदयाल अन्त्योदय योजना

  • पवन कुमार वर्मा शोधार्थी, कॉमर्स विभाग वी.एस.एस.डी. पी.जी. कॉलेज नवाबगंज, कानपुर

Abstract

दीनदयाल अंत्योदययोजना का उद्देश्य कौशल विकास और अन्य उपायों के माध्यम से आजीविका के अवसरों में वृद्धि कर शहरी और ग्रामीण गरीबी को कम करना है। मेक इन इंडिया, कार्यक्रम के उद्देश्य को ध्यान में रखते हुए सामाजिक तथा आर्थिक बेहतरी के लिए कौशल विकास आवश्यक है। दीनदयाल अंत्योदय योजना को आवास और शहरी गरीबी उपशमन मंत्रालय, (एच.यू.पी.ए.) के तहत शुरु किया गया था। भारत सरकार ने इस योजना के लिए 500 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है। यह योजना राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन (एन.यू.एल.एम), और राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (एन.आर.एल.एम) का एकीकरण है। राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन) एन.यू.एल.एम. (को दीन दयाल अंत्योदय योजना) - डी.ए.वाई.एन यू.एल.एम. और हिन्दी में राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन नाम दिया गया है। इस योजना के तहत शहरी क्षेत्रों के लिए दीनदयाल उपाध्याय अंत्योदय योजना के अंतर्गत सभी 4041 शहरों और कस्बों को कवर कर पूरे शहरी आबादी को लगभग कवर किया जाएगा। वर्तमान में सभी शहरी गरीबी उन्मूलन कार्यक्रमों में केवल 790 कस्बों और शहरों को कवर किया गया है।

Downloads

Download data is not yet available.
Published
2018-08-18
Section
Articles